239. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[328]

………..$
दै री मैया दोहनी, दुहिहौं मैं गैया ।
माखन खाएँ बल भयौ, करौं नंद-दुहैया ॥
कजरी धौरी सेंदुरी, धूमरि मेरी गैया ।
दुहि ल्याऊँ मैं तुरतहीं, तू करि दै घैया ॥

ग्वालिनि की सरि दुहत हौं, बूझहिं बल भैया ।
सूर निरखि जननी हँसी, तव लेति बलैया ॥

भावार्थ / अर्थ :– (श्याम बोले-) ‘मैया री ! मुझे दोहनी दे, मैं गाय दुहूँगा । मक्खन खाने
से मैं बलवान् हो गया हूँ ।’ यह बात बाबा नन्दकी शपथ करके कहता हूँ । ‘कजरी,
धौरी, लाल, धूमरी आदि मेरी जो गायें हैं, मैं उन्हें तुरंत दुह लाता हूँ, तू धैया
(ताजे दूधके ऊपरसे निकाला हुआ मक्खन) तैयार कर दे । तू दाऊ दादासे पूछ ले मैं
गोपियोंके समान ही दुह लेता हूँ ।’ सूरदासजी कहते हैं – (अपने लालको) देखकर माता
हँस पड़ी और तब बलैया लेने लगीं ।

Leave a Reply

Are you human? *