234. राग नट – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग नट

[322]

………..$
चले बन धेनु चारन कान्ह ।
गोप-बालक कछु सयाने, नंद के सुत नान्ह ॥
हरष सौं जसुमति पठाए, स्याम-मन आनंद ।
गाइ गो-सुत गोप बालक, मध्य श्रीनँद-नंद ॥
सखा हरि कौं यह सिखावत, छाँड़ि जिनि कहुँ जाहु ।
सघन बृंदाबन अगम अति, जाइ कहुँ न भुलाहु ॥
सूर के प्रभु हँसत मन मैं, सुनत हीं यह बात ।
मैं कहूँ नहिं संग छाँड़ौं, बनहि बहुत डरात ॥

भावार्थ / अर्थ :– कन्हाई वनमें गायें चराने जा रहे हैं । गोपबालक कुछ बड़े हैं, नन्द
नन्दन सबसे छोटे हैं । यशोदाजीने उन्हें प्रसन्नतापूर्वक भेज दिया, इससे कन्हाईका
चित्त प्रसन्न है । गाय, बछड़े और गोपबालकोंके बीचमें श्रीनन्दनन्दन हैं । सखा
श्यामसुन्दरको यही सिखला रहे हैं कि ‘हमलोगोंको छोड़कर कहीं जाना मत; क्योंकि
वृन्दावन खूब घना और अत्यन्त अगम्य है, (अन्यत्र) कहीं जाकर (मार्ग) न भूल
जाना’ सूरदासके स्वामी यह बात सुनकर मन-ही-मन हँस रहे हैं (कहते हैं-‘मैं कहीं
तुम्हारा साथ नहीं छोड़ूँगा, वनसे मैं बहुत डरता हूँ ।’

Leave a Reply

Are you human? *