230. राग गौरी – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग गौरी

[316]

………..$
आछौ दूध पियौ मेरे तात ?
तातौ लगत बदन नहिं परसत, फूँक देति है मात ॥
औटि धर््यौ है अबहीं मोहन, तुम्हरैं हेत बनाइ ।
तुम पीवौ, मैं नैननि देखौं, मेरे कुँवर कन्हाइ ॥
दूध अकेली धौरी कौ यह, तनकौं अति हितकारि ।
सूर स्याम पय पीवन लागे, अति तातौ दियौ डारि ॥

भावार्थ / अर्थ :– (मैया कहती है-) ‘मेरे लाल! बड़ा अच्छा दूध है पी लो ।’
गरम लगता है, इससे मुखसे छूते नहीं-माता फूँक देकर शीतल करती है । (वह कहती
है-)’मोहन! इसे अभी-अभी तुम्हारे ही लिये बनाकर (भली प्रकार) उबालकर रखा है ।
मेरे कुँवर कन्हाई! तुम पीओ और मैं अपनी आँखों (तुम्हें दूध पीते ) देखूँ । वह केवल
धौरीका दूध है, शरीर के लिये अत्यन्त लाभकारी है ।’ सूरदासजी कहते हैं – श्याम
सुन्दर दूध पीने लगे; किंतु वह अत्यन्त लाभकारी है।’ सूरदासजी कहते हैं- श्याम
सुन्दर दूध पीने लगे; किंतु वह अत्यन्त गरम था, इससे गिरा दिया ।

Leave a Reply

Are you human? *