224. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[303]

………..$
बृंदाबन मोकों अति भावत ।
सुनहु सखा तुम सुबल, श्रीदामा,
ब्रज तैं बन गौ चारन आवत ॥
कामधेनु सुरतरुसुख जितने,
रमा सहित बैकुंठ भुलावत ।
इहिं बृंदाबन, इहिं जमुना-तट,
ये सुरभी अति सुखद चरावत ॥
पुनि-पुनि कहत स्याम श्रीमुख सौं,
तुम मेरैं मन अतिहिं सुहावत ।
सूरदास सुनि ग्वाल चकृत भए ,
यह लीला हरि प्रगट दिखावत ॥

भावार्थ / अर्थ :– (श्यामसुन्दर कहते हैं -) ‘सखा सुबल, श्रीदामा, तुमलोग सुनो! वृन्दावन
मुझे बहुत अच्छा लगता है, इसीसे व्रजसे मैं यहाँ वनमें गायें चराने आता हूँ ।

कामधेनु, कल्पवृक्ष आदि जितने वैकुण्ठके सुख हैं, लक्ष्मी के साथ वैकुण्ठके उन सब
सुखोंको मैं भूल जाता हूँ । इस वृन्दावनमें, यहाँ यमुनाकिनारे इन गायों को चराना
मुझे अत्यन्त सुखदायी लगता है ।’ श्यामसुन्दर बार-बार अपने श्रीमुखसे कहते हैं –
‘तुमलोग मेरे मनको बहुत अच्छे लगते हो । सूरदासजी कहते हैं कि गोपबालक यह
सुनकर चकित हो गये, श्रीहरि अपनी लीलाका यह रहस्य उन्हें प्रत्यक्ष दिखला (बतला)
रहे हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *