212. राग कान्हरौ – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग कान्हरौ

[289]

…………$
पौढ़े स्याम जननि गुन गावत ।
आजु गयौ मेरौ गाइ चरावन, कहि-कहि मन हुलसावत ॥
कौन पुन्य-तप तैं मैं पायौ ऐसौ सुंदर बाल ।
हरषि-हरषि कै देति सुरनि कौं सूर सुमन की माल ॥
श्यामसुन्दर सो गये हैं, माता उनका गुणगान करती हैं -‘आज मेरा लाल गाय चराने गया
है’ बार-बार यह कहकर मन-ही-मन उल्लसित होती है । पता नहीं किस पुण्य तथा तपसे ऐसा
सुन्दर बालक मैंने पाया ।’ सूरदासजी कहते हैं, बार-बार हर्षित होकर वे देवताओंको
फूलों की माला चढ़ा रही हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *