210. राग सारंग – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग सारंग

[287]

…………$
मैं अपनी सब गाइ चरैहौं ।
प्रात होत बल कैं सँग जैहौं, तेरे कहें न रैहौं ॥
ग्वाल-बाल गाइन के भीतर, नैंकहु डर नहिं लागत ।
आजु न सोवौं नंद-दुहाई, रैनि रहौंगौ जागत ॥
और ग्वाल सब गाइ चरैहैं मैं घर बैठौ रेहौं ?
सूर स्याम तुम सोइ रहौ अब, प्रात जान मैं दैंहौं ॥

भावार्थ / अर्थ :– (श्यामसुन्दर मातासे कहते हैं-) ‘मैं अपनी सब गायें चराऊँगा ।
सबेरा होने पर दाऊ दादाके साथ जाऊँगा, तेरे कहनेसे (घर) नहीं रहूँगा । ग्वाल
बालकों तथा गायोंके बीचमें रहने से मुझे तनिक भी भय नहीं लगता है ।

नन्दबाबा की शपथ ! आज (मैं) सोऊँगा नहीं, रातभर जागता रहूँगा । दूसरे गोप
बालक तो गाय चरायेंगे और मैं घर बैठा रहूँ ?’ सूरदासजी कहते हैं,(माता बोलीं-)
श्याम, अब तुम सो रहो, सबेरे मैं तुम्हें जाने दूँगी ।’

Leave a Reply

Are you human? *