199. राग केदारौ – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग केदारौ

[270]

……………
जसुमति कहति कान्ह मेरे प्यारे , अपनैं ही आँगन तुम खेलौ ।
बोलि लेहु सब सखा संग के, मेरौ कह्यौ कबहुँ जिनि पेलौ ॥
ब्रज-बनिता सब चोर कहति तोहिं, लाजनि सकचि जात मुख मेरौ ।
आजु मोहि बलराम कहत हे, झूठहिं नाम धरति हैं तेरौ ॥
जब मोहि रिस लागति तब त्रासति, बाँधति मारति जैसैं चेरौ ।
सूर हँसति ग्वालिनि दै तारी, चोर नाम कैसैहुँ सुत फेरौ ॥

भावार्थ / अर्थ :– सूरदासजी कहते हैं – (समझाते हुए) यशोदाजी कह रही हैं,’मेरे प्यारे
कन्हाई ! तुम अपने ही आँगनमें खेलो । अपने साथके सब सखाओं को बुला लो, मेरा कहना
कभी टाला मत करो । व्रजकी सब स्त्रियाँ तुम्हें चोर कहती हैं,

इससे मेरा मुख लज्झासे संकुचित हो जाता है । परंतु आज मुझसे बलराम कहते थे कि वे
सब तुम्हें झूठ-मूठ बदनाम करती हैं । जब मुझे क्रोध आता है, तब मैं तुम्हें दासके
समान डाँटती हूँ, बाँधती हूँ और मार भी देती हूँ । गोपियाँ ताली बजाकर (चिढ़ाकर)
हँसती हैं, अतः पुत्र ! यह चोर नाम तो किसी प्रकार बदल (ही) डालो ।’

Leave a Reply

Are you human? *