197. राग सारंग – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग सारंग

[267]

…………$
अब घर काहू कैं जनि जाहु ।
तुम्हरैं आजु कमी काहे की , कत, तुम अनतहिं खाहु ॥
बरै जेंवरी जिहिं तुम बाँधे, परैं हाथ भहराइ ।
नंद मोहि अतिहीं त्रासत हैं, बाँधे कुँवर कन्हाइ ॥

रोग जाऊ मेरे हलधरके, छोरत हौ तब स्याम ।
सूरदास-प्रभु खात फिरौ जनि, माखन-दधि तुव धाम ॥

भावार्थ / अर्थ :– सूरदासजी कहते हैं–(मैया पश्चाताप करती कह रही हैं -)’लाल! अब
किसीके घर मत जाया करो । तुम्हारे यहाँ इस समय किस बातका अभाव है, दूसरेके यहाँ
जाकर तुम क्यों खाते हो ? जिस रस्सीसे तुम्हें बाँधा था, वह जल जाय; (तुम्हें
बाँधने वाले मेरे ) ये हाथ टूटकर गिर पड़ें, व्रजराज मुझे बहुत ही डाँट रहे हैं कि
‘तूने मेरे कुँवर कन्हाईको बाँध दिया ! मेरे बलरामके सब रोग दोष नष्ट हो जायँ, वह
तभी श्यामसुन्दर को छोड़ रहा था । मोहन ! तुम्हारे घरमें ही दही-मक्खन बहुत है,
(दूसरों के घर) खाते मत घूमो ।’

[268]

……….$
ब्रज-जुबती स्यामहि उर लावतिं ।
बारंबार निरखि कोमल तनु, कर जोरतिं, बिधि कौं जु मनावतिं ॥
कैसैं बचे अगम तरु कैं तर, मुख चूमतिं, यह कहि पछितावतिं ।
उरहन लै आवतिं जिहिं कारन, सो सुख फल पूरन करि पावतिं ॥
सुनौ महरि, इन कौं तुम बाँधति, भुज गहि बंधन-चिह्न दिखावतिं ।
सूरदास प्रभु अति रति-नागर, गोपी हरषि हृदय लपटावतिं ॥

भावार्थ / अर्थ :– व्रजकी गोपियाँ श्यामसुन्दरको हृदयस लगा रही हैं । बार-बार उनके सुकुमार शरीरको
देखकर हाथ जोड़कर दैवको मनाती हैं (कि यह सकुशल रहे)। ‘बड़े विकट वृक्षोंके नीचे
पड़कर ये कैसे बचे ? ‘ यह सोचकर मुख चूमती हैं तथा यह कहते हुए पश्चाताप करती
हैं कि-‘जिसके लिये हम उलाहना लेकर आती थीं, उस सुखका फल पूर्णरूपमें हम पा रही
हैं व्रजरानी ! सुनो, तुम इन्हें (इतने सुकुमारको) बाँधती हो ?’ (यह कहकर) हाथ पकड़
कर बन्धनके चिह्न (रस्सीके निशान) दिखलाती हैं । सूरदासजी कहते हैं कि मेरे स्वामी
क्रीड़ा करनेमें अत्यन्त चतुर हैं (उन्होंने अपनी इस क्रीड़ासे सबको मोहित कर लिया
है ) गोपियाँ हर्षित होकर उन्हें हृदयसे लिपटा रही हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *