196. राग नट – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग नट

[266]

………..$
मोहन ! हौं तुम ऊपर वारी ।
कंठ लगाइ लिये, मुख चूमति, सुंदर स्याम बिहारी ॥
काहे कौं ऊखल सौं बाँध्यौ, कैसी मैं महतारी ।
अतिहिं उतंग बयारि न लागत, क्यौं टूटे तरु भारी ॥
बारंबार बिचारति जसुमति , यह लीला अवतारी ।
सूरदास स्वामी की महिमा, कापै जाति बिचारी ॥

भावार्थ / अर्थ :– ‘मोहन ! मैं तुम्हारे ऊपर न्योछावर हूँ !’ (यह कहकर मैयाने) लीला-विहारी
श्यामसुन्दरको गलेसे लगा लिया और उनका मुख चुम्बन करने लगीं । ~मैंने क्यों तुम्हें
ऊखलमें बाँध दिया, मैं कैसी (निष्ठुर) माता हूँ । ये वृक्ष तो बड़े ऊँचे हैं,इन्हें
हवा भी नहीं लगती (आँधीमें भी ये झुकते नहीं थे) ऐसे भारी वृक्ष कैसे टूट गये ?’
यशोदाजी यही बार-बार विचार कर रही है । सूरदासजी कहते हैं-मेरे स्वामीकी यह तो
अवतार लीला है; उनकी महिमा भला, किससे सोची (समझी) जा सकती है ?

Leave a Reply

Are you human? *