सोचा नहीं अछा बुरा देखा सुना कुछ भी नहीं

सोचा नहीं अछा बुरा देखा सुना कुछ भी नहीं

बशीर बद्र

सोचा नहीं अछा बुरा देखा सुना कुछ भी नहीं
सोचा नहीं अच्छा बुरा देखा सुना कुछ भी नहीं
मांगा खुदा से रात दिन तेरे सिवा कुछ भी नहीं
देखा तुझे सोचा तुझे चाहा तुझे पूजा तुझे
मेरी ख़ता मेरी वफ़ा तेरी ख़ता कुछ भी नहीं
जिस पर हमारी आँख ने मोती बिछाये रात भर
भेजा वही काग़ज़ उसे हमने लिखा कुछ भी नहीं
इक शाम की दहलीज़ पर बैठे रहे वो देर तक
आँखों से की बातें बहुत मुँह से कहा कुछ भी नहीं
दो चार दिन की बात है दिल ख़ाक में सो जायेगा
जब आग पर काग़ज़ रखा बाकी बचा कुछ भी नहीं
अहसास की ख़ुश्बू कहाँ आवाज़ के जुगनू कहाँ
ख़ामोश यादों के सिवा घर में रहा कुछ भी नहीं

साभार : http://hi.literature.wikia.com/

One Response

  1. shashijnu35@gmail.com
    shashijnu35@gmail.com November 13, 2008 at 8:15 am | | Reply

    sir,Bashir badr is also my favourite. khaskar ye gazal bahut acchi hai, keep it on.

Leave a Reply

Are you human? *