22. सारंग

22. सारंग

—————-
रे मन, राम सों करि हेत।
हरिभजन की बारि करिलै, उबरै तेरो खेत।।
मन सुवा, तन पींजरा, तिहि मांझ राखौ चेत।
काल फिरत बिलार तनु धरि, अब धरी तिहिं लेत।।
सकल विषय-विकार तजि तू उतरि सागर-सेत।
सूर, भजु गोविन्द-गुन तू गुर बताये देत।।22।।
शब्दार्थ :-हेत =प्रेम। वारि = कांटों का घेरा, जो पशुओं से बचाने के लिए खेत के
चारों तरफ लगा दिया जाता है। उबरे तेरो खेत = तेरे जीवन-क्षेत्र की रक्षा हो जाय
चेत =होशियार हो। सेत =सेतु, पुल।
टिप्पणी :- यह जीवन क्षेत्र है, पर क्षणस्थायी है। इसकी यदि रखवाली करनी है, इसे
सार्थक बनाना है, तो भगवान् का भजन किया कर। काल से मुक्ति पाने का हरि-भजन ही
अमोघ उपाय है। काल किसी का लिहाज नहीं करता। विषयों से मोह हटाकर गोविन्द का गुण-
गान करने से ही तू संसार-सागर पार कर सकेगा, अन्यथा नहीं।

Leave a Reply

Are you human? *