188. राग बिलावल – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग बिलावल

[256]

……………
जसुदा तोहिं बाँधि क्यौं आयौ ।
कसक्यौ नाहिं नैकु मन तेरौ, यहै कोखि कौ जायौ ॥
सिव-बिरंचि महिमा नहिं जानत, सो गाइनि सँग धायौ ।
तातैं तू पहचानति नाहीं, कौन पुण्य तैं पायौ ॥
कहा भयौ जो घरकैं लरिका, चोरी माखन खायौ ?
इतनी कहि उकसारत बाहैं, रोष सहित बल धायौ ॥

अपनैं कर सब बंधन छोरे, प्रेम सहित उर लायौ ।
सूर सुबचन मनोहर कहि-कहि अनुज-सूल बिसरायौ ॥

भावार्थ / अर्थ :– (श्रीबलरामजी कहते हैं-) ‘यशोदाजी! तुमसे (कन्हाई) बाँधा कैसे गया ?
तुम्हारे चित्तमें तनिक भी पीड़ा नहीं हुई ? यह तुम्हारी इसी कोखसेतो उत्पन्न हुआ
है । जिसका माहात्म्य शंकर और ब्रह्माजी भी नहीं जानते , (वही तुम्हारे प्रेमवश)
यहाँ गायोंके साथ दौड़ता है, इसलिये तुम इसे पहचानती नहीं हो, पता नहीं किस पुण्यसे
तुमने इसे पाया है । हुआ क्या जो घरके लड़केने चोरीसे मक्खन खा लिया ?’ इतनी बात
कहकर अपनी बाँहें उभारते हुए बलराम क्रोधपूर्वक दोढ़ पड़े । अपने हाथों उन्होंने सब
बन्धन खोल दिये और प्रेमसे (छोटे भाईको) हृदयसे लगा लिया । सूरदासजी कहते हैं कि
सुन्दर मनोहर बातें कह-कहकर अपने छोटे भाईकी पीड़ा उन्होंने भुलवा दी ।

Leave a Reply

Are you human? *