180. राग केदारा – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग केदारा

[246]

…………$
देखि री नंद-नंदन ओर ।
त्रास तैं तन त्रसित भए हरि, तकत आनन तोर ॥
बार-बार डरात तोकौं, बरन बदनहिं थोर ।
मुकुर-मुख, दोउ नैन ढ़ारत, छनहिं-छन छबि-छोर ॥
सजल चपल कनीनिका पल अरुन ऐसे डोंर (ल) ।
रस भरे अंबुजन भीतर भ्रमत मानौ भौंर ॥

लकुट कैं डर देखि जैसे भए स्रोनित और ।
लाइ उरहिं, बहाइ रिस जिय, तजहु प्रकृति कठोर ॥
कछुक करुना करि जसोदा, करति निपट निहोर ।
सूर स्याम त्रिलोक की निधि, भलैहिं माखन-चोर ॥

भावार्थ / अर्थ :– (गोपी कहती है-) ‘सखी (यशोदाजी) नन्दनन्दन की ओर देखो ! भयसे कंपित
-शरीर होकर श्यामसुन्दर तुम्हारे मुखकी ओर देख रहें हैं । बार बार तुमसे डर रहें
हैं, मुखकी कान्ति घट गयी है, क्षण-क्षणपर दोनों नेत्रोंसे दर्पणके समान निर्मल
कपोलोंपर अश्रु ढुलका रहे हैं ! ये तो शोभाकी सीमा हैं, अश्रुभरे पलक हैं तथा चञ्चल
पुतलियोंपर ऐसे लाल डोरे हैं, मानो रसभरे कमलोंके भीतर भौरें घूम रहे हों ! छड़ीके
भयसे ये नेत्र ऐसे दीखते हैं जैसे औरभी लाल हो उठे हों! इन्हें हृदयसे लगा लो,
चित्तसे क्रोध दूर करदो और इस कठोर स्वभावको छोड़ दो । यशोदाजी, मैं अत्यन्त
निहोरा (अनुनय) करती हूँ, कुछ तो दया करो ।’ सूरदासजी कहते हैं – श्यामसुन्दर
भले माखन-चोर हों, परंतु वे त्रिलोकी की निधि हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *