173. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[238]

………..$
कहा भयौ जौ घर कैं लरिका चोरी माखन खायौ ।
अहो जसोदा! कत त्रासति हौ, यहै कोखि कौ जायौ ॥
बालक अजौं अजान न जानै केतिक दह्यौ लुटायौ ।
तेरौ कहा गयौ? गोरस को गोकुल अंत न पायौ ॥
हा हा लकुट त्रास दिखरावति, आँगन पास बँधायौ ।
रुदन करत दोउ नैन रचे हैं, मनहुँ कमल-कन-छायौ ॥
पौढ़ि रहे धरनी पर तिरछैं, बिलखि बदन मुरझायौ ।
सूरदास-प्रभु रसिक-सिरोमनि, हँसि करि कंठ लगायौ ॥

भावार्थ / अर्थ :– (कोई गोपी कहती है-)’क्या हुआ जो घरके लड़केने चोरीसे मक्खन खा
लिया ? अरी यशोदाजी ! इसे क्यों भयभीत करती हो, आखिर यह तुम्हारी इसी कोख
(पेट) से (तो) उत्पन्न हुआ है । अभी यह अनजान बालक है, यह समझता नहीं कि
कितनी दही मैंने ढुलका दिया । किंतु तुम्हारी हानि क्या हुई ? तुम्हारे पास तो इतना
गोरस है कि पूरा गोकुल उसका अन्त (थाह) नहीं पा सकता । हाय, हाय छड़ी लेकर तुम इसे
भय दिखलाती हो और (खुले) आँगनमें पाशसे बाँध रखा है ! रोनेसे इसके दोनों नेत्र ऐसे
हो गये हैं मानो कमलदल पर जलकण छिटके हों । यह पृथ्वी पर तिरछे होकर लेट रहा है,
रोते रोते इसका मुख मलिन पड़ गया है ।’ सूरदासके स्वामी तो रसिक-शिरोमणि हैं, (माता
ने रस्सी खोलकर ) हँसकर उन्हें गले लगा लिया ।

[239]

………..$
चित दै चितै तनय-मुख ओर ।
सकुचत सीत-भीत जलरुह ज्यौं, तुव कर लकुट निरखि सखि घोर ॥

आनन ललित स्रवत जल सोभित, अरुन चपल लोचन की कोर ।
कमल-नाल तैं मृदुल ललित भुज ऊखल बाँधे दाम कठोर ॥
लघु अपराध देखि बहु सोचति, निरदय हृदय बज्रसम तोर ।
सूर कहा सुत पर इतनी रिस, कहि इतनै कछु माखन-चौर ॥

भावार्थ / अर्थ :– सूरदासजी कहते हैं- (गोपी कह रही है-) तनिक मन लगाकर (ध्यानसे)पुत्रके
मुखकी ओर तो देखो । सखी ! तुम्हारे हाथमें भयानक छड़ी देखकर यह भयसे इस प्रकार
संकुचित हो रहा हो । सुन्दर मुखपर अरुण एवं चञ्चल नेत्रों के कोनोंसे टपकते आँसू
शोभित हो रहे हैं । कमल-नालसे भी कोमल इसकी सुन्दर भुजाओंको तुमने कठोर रस्सीसे
ऊखलके साथ बाँध दिया है । इसके छोटे-से अपराधको देखकर मुझे बहुत चिन्ता हो रही है;
किंतु तुम तो निर्दय हो, तुम्हारा हृदय वज्रके समान कठोर है । अरे, पुत्र पर इतना
क्रोध भी क्या, बताओ तो इतना कितना अधिक मक्खन इसने चुरा लिया ।’

Leave a Reply

Are you human? *