160. राग नट – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग नट

[222]

……………
नंद-घरनि ! सुत भलौ पढ़ायौ ।
ब्रज-बीथिनि, पुर-गलिनि, घरै-घर, घाट-बाट सब सोर मचायौ ॥
लरिकनि मारि भजत काहू के, काहू कौ दधि-दूध लुटायौ ।
काहू कैं घर करत भँड़ाई, मैं ज्यौं-ज्यौं करि पकरन पायौ ॥
अब तौ इन्है जकरि धरि बाँधौं, इहिं सब तुम्हरौ गाउँ भजायौ ।
सूर स्याम-भुज गहि नँदरानी, बहुरि कान्ह अपनैं ढँग लायौ ॥

भावार्थ / अर्थ :– (गोपी कहती है-) ‘नन्दरानी ! तुमने पुत्रको अच्छी शिक्षा दी है व्रजकी
गलियोंमें, नगरके मार्गोमें, घर-घरमें, घाटोंपर, कच्चे रास्तोंमें-सब कहीं उसने
हल्ला (ऊधम) मचा रखा है । किसीके लड़कोंको मारकर भाग जाता है, किसीका दूध-दही
लुटा देता है, किसीके घरमें घुसकर ढूँढ़-ढ़ाँढ़ करता है, जैसे-तैसे करके मैं इसे
पकड़ सकी हूँ । अब तो इसे जकड़कर बाँध रखो, इसने तुम्हारे सारे गाँवको भगा दिया
(इसके ऊधमसे तंग होकर सब लोग गाँव छोड़कर जाने लगे)।’ सूरदासजी कहते हैं कि
श्रीनन्दरानीने श्यामसुन्दरका हाथ पकड़ लिया; किंतु कन्हाई तो फिर अपने ही ढंगमें
लग गये (पूर्ववत् ऊधम करते रहे) ।

Leave a Reply

Are you human? *