144. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[201]

……………
चौरी करत कान्ह धरि पाए ।
निसि-बासर मोहि बहुत सतायौ, अब हरि हाथहिं आए ॥
माखन-दधि मेरौ सब खायौ, बहुत अचगरी कीन्ही ।
अब तौ घात परे हौ लालन, तुम्हें भलैं मैं चीन्ही ॥
दोउ भुज पकरि कह्यौ, कहँ जैहौ,माखन लेउँ मँगाइ।
तेरी सौं मैं नैकुँ न खायौ, सखा गए सब खाइ ॥
मुख तन चितै, बिहँसि हरि दीन्हौ, रिस तब गई बुझाइ ।
लियौ स्याम उर लाइ ग्वालिनी, सूरदास बलि जाइ ॥

भावार्थ / अर्थ :– (गोपीने) चोरी करते कन्हाईको पकड़ लिया (बोली-) श्याम! रात दिन तुमने
मुझे बहुत तंग किया, अब (मेरी) पकड़में आये हो । मेरा सारा मक्खन और दही तुमने
खा लिया, बहुत ऊधम किया किंतु लाल! अब तो मेरे चंगुलमें पड़ गये हो, तुम्हें मैं
भली प्रकार पहचानती हूँ (कि तुम कैसे चतुर हो)” (श्यामके) दोनों हाथ पकड़कर उसने
कहा -‘बताओ, (अब भागकर) कहाँ जाओगे? मैं सारा मक्खन (यशोदाजी से) मँगा लूँगी ।’
(तब श्यामसुन्दर बोले-) ‘तेरी शपथ ! मेंने थोड़ा भी नहीं खाया, सखा ही सब खा गये।’
उसके मुखकी ओर देखकर मोहन हँस पड़े, इससे उसका सब क्रोध शान्त हो गया । उस
गोपीने श्यामसुन्दरको हृदयसे लगा लिया । इस शोभा (तथा चतुरता) पर सूरदास बलिहारी
जाता है ।

Leave a Reply

Are you human? *