126. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[176]

………..$
गोपाल राइ चरननि हौं काटी ।
हम अबला रिस बाँचि न जानी, बहुत लागि गइ साँटी ॥
वारौं कर जु कठिन अति कोमल, नयन जरहु जिनि डाँटी ।
मधु. मेवा पकवान छाँड़ि कै, काहैं खात हौ माटी ॥
सिगरोइ दूध पियौ मेरे मोहन, बलहि न दैहौं बाँटी ।
सूरदास नँद लेहु दोहनी, दुहहु लाल की नाटी ॥

भावार्थ / अर्थ :– सूरदासजी कहते हैं (माता पश्चाताप करती कह रही हैं )’ अपने राजा
गोपालके चरणोंमें मैं तो कट गयी ( इसके सामने मैं लज्जित हो गयी )। मैं अबला
(नासमझ) हूँ । अपने ही क्रोधको रोक न सकी । छड़ीकी चोट लालको बहुत लग गयी ।
इस परम कोमलपर अपने इन अत्यन्त कठोर हाथोंको न्योछावर कर दूँ; मेरे ये नेत्र जल
जायँ, जिनसे मोहनको मैंने डाँटा । लाल! तुम मधु, मेवा और पकवान छोड़कर मिट्टी
क्यों खाते हो ? मेरे मोहन! तुम सारा दूध पी लो, बलरामको इसमेंसे भाग पृथक करके
नहीं दूँगी । व्रजराज ! वह दोहनी लो और मेरे लालकी नाटी (छोटी) गैया दुह दो।’

Leave a Reply

Are you human? *