121. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[171]

………..$
मोहन काहैं न उगिलौ माटी ।
बार-बार अनरुचि उपजावति, महरि हाथ लिये साँटी ॥
महतारी सौं मानत नाहीं कपट-चतुरई ठाटी ।
बदन उधारि दिखायौ अपनौ, नाटक की परिपाटी ॥
बड़ी बार भइ, लोचन उधरे, भरम-जवनिका फाटी ।
सूर निरखि नँदरानि भ्रमित भइ, कहति न मीठी-खाटी ॥

भावार्थ / अर्थ :– श्रीव्रजरानी हाथमें छड़ी लिये कहती हैं–मोहन ! मिट्टी उगल क्यों नहीं
देते ?’ वे बार-बार (इस कार्यसे ) अपने लालके मनमें घृणा उत्पन्न करना चाहती हैं ।
(किंतु) श्रीकृष्ण (अपनी) माताकी बात नहीं मान रहे हैं, उन्होंने कपटभरी चतुराई
ठान ली है । सूरदासजी कहते हैं कि तब श्यामने मुख खोलकर नाटक के समान (सम्पूर्ण
विश्व) दिखला दिया, इससे श्रीनन्दरानी बड़ी देरतक खुले नेत्रों से (अपलक) देखती रह
गयी; मैं माता हूँ और ये मेरे पुत्र हैं–उनके इस भ्रमका पर्दा फट गया । (इस अद्भुत
दृश्यको) देखकर वे इतनी चकरा गयीं कि भला-बुरा कुछ भी नहीं कह पातीं ।

Leave a Reply

Are you human? *