119. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[168]

……………
अहो नाथ ! जेइ-जेइ सरन आए तेइ तेइ भए पावन ।
महापतित-कुल -तारन, एकनाम अघ जारन, दारुन दुख बिसरावन ॥
मोतैं को हो अनाथ, दरसन तैं भयौं सनाथ देखत नैन जुड़ावन ।
भक्त हेतदेह धरन, पुहुमी कौ भार हरन, जनम-जनम मुक्तावन ॥
दीनबंधु, असरनके सरन, सुखनि जसुमति के कारन देह धरावन ।
हित कै चित की मानत सबके जियकी जानत सूरदास-मन-भावन ॥

भावार्थ / अर्थ :– ‘हे स्वामी ! जो जो आपकी शरण आये, वे सब परम पवित्र हो गये ।
आपका एक ही नाम (आपके नामका एक बार उच्चारण) ही महान् पतितोंके भी कुलका उद्धार
करनेवाला, पापोंको भस्म करनेवाला तथा कठिन-से-कठिन दुःख को विस्मृत करा देनेवाला
है। मेरे समान अनाथ कौन था; किंतु आपके दर्शनसे मैं सनाथ हो गया, आपका दर्शन ही
नेत्रोंको शीतल करनेवाला है। आप भक्तोंका मंगल करने, पृथ्वीका भार दूर करने एवं
(अपने भक्तोंको) जन्म-जन्मान्तरसे छुड़ा देनेके लिये अवतार धारण करते हैं ।दीनबंधु!

आप अशरणको त्राण देनेवाले हैं, सुखमयी यशोदाजौ के लिये आपने यह अवतार धारण किया
है । आप सबके चित्तके प्रेम-भावका आदर करते हैं, सबके मनकी बात जानते हैं, सूरदास
जी कहते हैं – मेरे मनभावन आप ही हैं।

Leave a Reply

Are you human? *