88. राग रामकली – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग रामकली

[125]

………..$
प्रात समय उठि, सोवत सुत कौ बदन उघार््यौ नंद ।
रहि न सके अतिसय अकुलाने, बिरह निसा कैं द्वंद ॥
स्वच्छ सेज मैं तैं मुख निकसत, गयौ तिमिर मिटि मंद ।
मनु पय-निधि सुर मथत फेन फटि, दयौ दिखाई चंद ॥
धाए चतुर चकोर सूर सुनि, सब सखि -सखा सुछंद ।
रही न सुधि सरीर अरु मन की, पीवत किरनि अमंद ॥

भावार्थ / अर्थ :– व्रजराज श्रीनन्दजी नेसबेरे उठकर अपने सोते हुए पुत्रका मुख (उत्तरीय
हटाकर) खोला, क्योंकि वे अपनेको रोक न सके; रात्रिमें हो वियोग हुआ था, उसके
दुःखसे वे अत्यन्त छटपटा रहे थे । स्वच्छ शय्यामेंसे मोहनका मुख खुलते ही (प्रातः
कालीन) मन्द अन्धकार भी दूर हो गया । ऐसा लगा मानो देवताओं द्वारा क्षीरसमुद्रका
मन्थन करते समय फेन फट जानेसे चन्द्रमा दिखलायी पड़ गया । सूरदासजी कहते हैं कि
(मोहन उठ गये, यह) सुनकर चतुर चकोरोंके समान सब गोपियाँ और ग्वालबाल शीघ्रता
से दौड़े, उस मुखचन्द्रकी उज्ज्वल किरणोंका पान करते हुए उन्हें अपने तन-मनकी भी
सुधि नहीं रही ।

Leave a Reply

Are you human? *