77. राग आसावरी – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग आसावरी

[111]

………..$
जसुमति जबहिं कह्यौ अन्वावन, रोइ गए हरि लोटत री ।
तेल उबटनौं लै आगैं धरि, लालहिं चोटत-पोटत री ॥
मैं बलि जाउँ न्हाउ जनि मोहन, कत रोवत बिनु काजैं री ।
पाछैं धरि राख्यौ छपाइ कै उबटन-तेल-समाजैं री ॥
महरि बहुत बिनती करि राखति, मानत नहीं कन्हैया री ।
सूर स्याम अतिहीं बिरुझाने, सुर-मुनि अंत न पैया री ॥
भावार्थ :– श्री यशोदाजी जब स्नान करानेको कहा तो श्यामसुन्दर रोने
लगे और पृथ्वीपर लोटने लगे । (माताने) तेल और उबटन लेकर आगे रख लिया और
अपने लालको पुचकारने-दुलारने लगीं । (वे बोलीं) ‘मोहन! मैं तुमपर बलि जाऊँ,
तुम स्नान मत करो, किंतु बिना काम (व्यर्थ) रो क्यों रहे हो ?’

(माताने) उबटन, तेल आदि सामग्री अपने पीछे छिपाकर रख ली । श्री
व्रजरानी अनेक प्राकर से कहकर समझाती हैं, किंतु कन्हाई मानते ही नहीं ।
सूरदासजी कहते हैं कि जिनका पार देवता और मुनिगण भी नहीं पाते, वे ही
श्यामसुन्दर बहुत मचल पड़े हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *