76. राग बिलावल – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग बिलावल

[110]

……………
मोहन, आउ तुम्हैं अन्हवाऊँ ।
जमुना तैं जल भरि लै आऊँ, ततिहर तुरत चढ़ाऊँ ॥
केसरि कौ उबटनौ बनाऊँ, रचि-रचि मैल छुड़ाऊँ ।
सूर कहै कर नैकु जसोदा, कैसैहुँ पकरि न पाऊँ ॥

भावार्थ / अर्थ :– ‘माता ! आओ , तुम्हें स्नान कराऊँ । श्रीयमुनाजीसे
जल भरकर ले आऊँ और उसे गरम करने के लिये पात्रमें डालकर तुरंत चूल्हे
पर चढ़ा दूँ (जबतक जल गरम हो, तबतक मैं) केसररका उबटन बनाकर (उससे
मल-मलकर (तुम्हारे शरीरका) मैल छुड़ा दूँ ।’ सूरदासजी कहते हैं श्री
यशोदाजी (खीझकर) कहती हैं कि ‘इस चञ्चलको किसी भी प्रकार अपने हाथसे
मैं पकड़ नहीं पाती ।’

Leave a Reply

Are you human? *