62. राग कान्हरौ – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग कान्हरौ

[87]

…………$
गोद खिलावति कान्ह सुनी, बड़भागिनि हो नँदरानी ।
आनँद की निधि मुख जु लाल कौ, छबि नहिं जाति बखानी ॥
गुन अपार बिस्तार परत नहिं कहि निगमागम-बानी ।
सूरदास प्रभु कौं लिए जसुमति,चितै-चितै मुसुकानी ॥
सुना है कि महाभाग्यवती श्रीनन्दरानी कन्हैयाको गोदमें लेकर खेलाती थीं । लालका
मुख तो आनंदकी निधि (कोष) है, उसकी शोभाका वर्णन नहीं किया जा सकता । उनके
गुण अपार हैं, वेद और शास्त्रोंके द्वारा भी उनके विस्तारकावर्णन नहीं हो सकता है ।
सूरदासजी कहते हैं कि मेरे ऐसे स्वामीको गोदमें लेकर यशोदाजी उन्हें देख-देखकर
मुसकराती (हर्षित होती) थी ।

Leave a Reply

Are you human? *