54. राग आसावरी – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग आसावरी

[70]

……………
आनँद-प्रेम उमंगि जसोदा, खरी गुपाल खिलावै ।
कबहुँक हिलकै-किलकै जननी मन-सुख-सिंधु बढ़ावै ॥
दै करताल बजावति, गावति, राग अनूप मल्हावै ।
कबहुँक पल्लव पानि गहावै, आँगन माँझ रिंगावै ॥
सिव सनकादि, सुकादि, ब्रह्मादिक खोजत अंत न पावैं ।
गोद लिए ताकौं हलरावैं तोतरे बैन बुलावै ॥
मोहे सुर, नर, किन्नर, मुनिजन, रबि रथ नाहिं चलावै ।
मोहि रहीं ब्रज की जुवती सब, सूरदास जस गावै ॥

भावार्थ / अर्थ :– आनन्द और प्रेमसे उमंगमें भरी यशोदाजी खड़ी होकर (गोदमें लेकर)
गोपालको खेला रही हैं । कभी वे उछलते हैं, कभी किलकारी मारते हैं, जिससे मैया
के चित्तमें सुखसागरको अभिवर्धित करते हैं । माता ताली बजाती है और अनुपम रागसे
लोरी गाकर दुलार करती है । कभी अपने पल्लवके समान कोमल हाथ पकड़ाकर आँगनमें
चलाती है ।

शिव, सनकादि ऋषि शुकदेवादि परमहंस तथा ब्रह्मादि देवता ढूँढ़कर भी जिनका (जिनकी
महिमाका) पार नहीं पाते,मैया उन्हींको गोदमें लेकर हिलाती (झुलाती) है और तोतली
वाणी बुलवाती है । देवता, मनुष्य, किन्नर तथा मुनिगण- सब (इस लीलाको देखकर) मुग्ध
हो रहे हैं, सूर्य (लीला-दर्शनसे मुग्ध होकर) अपने रथको आगे नहीं चलाते हैं, व्रजकी
सभी युवतियाँ (इस लीलापर) मुग्ध हो रही हैं । सूरदास (इन्हीं श्यामका) सुयश गा रहा
है ।

Leave a Reply

Are you human? *