49. राग बिलावल – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग बिलावल

[64]

………..$
चलत स्यामघन राजत, बाजति पैंजनि पग-पग चारु मनोहर ।
डगमगात डोलत आँगन मैं, निरखि बिनोद मगन सुर-मुनि-नर ॥
उदित मुदित अति जननि जसोदा, पाछैं फिरति गहे अँगुरी कर ।
मनौ धेनु तृन छाँड़ि बच्छ-हित , प्रेम द्वित चित स्रवत पयोधर ॥
कुंडल लोल कपोल बिराजत,लटकति ललित लटुरिया भ्रू पर ।
सूर स्याम-सुंदर अवलोकत बिहरत बाल-गोपाल नंद-घर ॥

भावार्थ / अर्थ :– घनश्याम चलते हुए अत्यन्त शोभित होते हैं, सुन्दर मनोहारी पैंजनी
प्रत्येक पद रखनेके साथ बज रही है । आँगनमें कन्हाई डगमागाते हुए चलते हैं,
उनकी इस क्रीड़ा को देखकर देवता, मुनि तथा सभी मनुष्य आनन्दमग्न हो रहे हैं ।
माता यशोदाको अत्यन्त आनन्द हो रहा है, वे हाथसे मोहन की अँगुली पकड़े साथ
साथ घूम रही हैं,

मानो बछड़ेके प्रेमसे गायने तृण चरना छोड़ दिया है । उनका हृदय प्रेम से पिघल गया
है और स्तनोंसे दूध टपक रहा है । मोहनके कपोलोंपर चञ्चल कुंडल शोभा दे रहे हैं,
भौंहों तक सुन्दर बालोंकी लटें लटक रही हैं । बालगोपाल रूपसे व्रजराज नन्दजी के
भवनमें क्रीड़ा करते श्यामसुन्दर को सूरदास देख रहा है ।
राग-गौरी

[65]

…………$
भीतर तैं बाहर लौं आवत ।
घर-आँगन अति चलत सुगम भए, देहरि अँटकावत ॥
गिरि-गिरि परत, जात नहिं उलँघी, अति स्रम होत नघावत ।
अहुँठ पैग बसुधा सब कीनी, धाम अवधि बिरमावत ॥
मन हीं मन बलबीर कहत हैं, ऐसे रंग बनावत ।
सूरदास प्रभु अगनित महिमा, भगतनि कैं मन भावत ॥

भावार्थ / अर्थ :– कन्हाई घरके भीतरसे अब बाहरतक आ जाते हैं । घरमें और आँगनमें चलना
अब उनके लिये सुगम हो गया है; किंतु देहली रोक लेती है । उसे लाँघा नहीं जाता है,
लाँघनेमें बड़ा परिश्रम होता है, बार-बार गिर पड़ते हैं । बलरामजी (यह देखकर) मन-ही
मन कहते हैं – ‘इन्होंने (वामनावतारमें) पूरी पृथ्वी तो साढ़े तीन पैरमें नापली और
ऐसा रंग-ढंग बनाये हैंकि घर की देहली इन्हें रोक रही है ।’ सूरदासके स्वामीकी महिमा
गणनामें नहीं आती, वह भक्तोंके चित्तको रुचती (आनन्दित करती) है ।

Leave a Reply

Are you human? *