48. राग धनाश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग धनाश्री

[63]

……………
कान्ह चलत पग द्वै-द्वै धरनी ।
जो मन मैं अभिलाष करति ही, सो देखति नँद-घरनी ॥
रुनुक-झुनुक नूपुर पग बाजत, धुनि अतिहीं मन-हरनी ।
बैठि जात पुनि उठत तुरतहीं सो छबि जाइ न बरनी ॥
ब्रज-जुवती सब देखि थकित भइँ, सुंदरता की सरनी ।
चिरजीवहु जसुदा कौ नंदन सूरदास कौं तरनी ॥

भावार्थ / अर्थ :– कन्हाई अब पृथ्वीपर दो-दो पग चल लेता है । श्रीनन्द-रानी अपने मनमें
जो अभिलाषा करती थीं, उसे अब (प्रत्यक्ष) देख रही हैं । (मोहनके) चरणोंमें रुनझुन
नूपुर बजते हैं जिनकी ध्वनि मनको अतिशय हरण करनेवाली है । वे बैठ जाते हैं और
फिर तुरंत उठ खड़े होते हैं – इस शोभाका तो वर्णन ही नहीं हो सकता । सुन्दरताके
इस अद्भुत ढंगको देखकर व्रज की सब युवतियाँ थकित हो गयी हैं । सूरदासके लिये
(भवसागरकी) नौकारूप श्रीयशोदानन्दन चिरजीवी हों ।

Leave a Reply

Are you human? *