17. राग जैतश्री – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग जैतश्री

[19]

……………
कनक-रतन-मनि पालनौ, गढ़्यौ काम सुतहार ।
बिबिध खिलौना भाँति के (बहु) जग-मुक्ता चहुँधार ॥
जननि उबटि न्हवाइ कै (सिसु) क्रम सौं लीन्है गोद ।
पौढ़ाए पट पालनैं (हँसि) निरखि जननि मन-मोद ॥
अति कोमल दिन सात के (हो) अधर चरन कर लाल ।
सूर स्याम छबि अरुनता (हो) निरखि हरष ब्रज-बाल ॥

भावार्थ / अर्थ :– बढ़ईने रत्न तथा मणियोंसे जड़ा पलना बड़ी कारीगरी करके बनाया है ।
उसमे अनेक भाँति के खिलौने लटक रहे हैं और चारों ओर जगमुक्ताकी लड़ियाँ लगी हैं ।
माताने उबटन लगाकर, स्नान कराके धीरे से शिशुको गोदमें उठाया और पलने में सुलाकर
वस्त्र ऊपर डाला, फिर हँसकर (पुत्र को ) देखकर माताके मनमें बड़ा आनन्द हुआ । अभी
अत्यन्त कोमल हैं, केवल सात दिनके हैं, अधर, चरन तथा कर लाल-लाल हैं, सूरदासजी
कहते हैं–श्यामसुन्दरकी अरुणिम छटा देखकर व्रजकी नारियाँ हर्षित हो रही हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *