15. राग बिलावल – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग बिलावल

[17]

……………
आजु गृह नंद महर कैं बधाइ ।
प्रात समय मोहन मुख निरखत, कोटि चंद-छबि पाइ ॥
मिलि ब्रज-नागरि मंगल गावतिं, नंद-भवन मैं आइ ।
देतिं असीस, जियौ जसुदा-सुत कोटिनि बरष कन्हाइ ॥
अति आनंद बढ्यौ गोकुल मैं, उपमा कही न जाइ ।
सूरदास धनि नँद की घरनी, देखत नैन सिराइ ॥

भावार्थ / अर्थ :– आज व्रजराज श्रीनन्दजी के यहाँ बधाई बज रही है । करोड़ों चन्द्रमा के समान सुशोभित
मोहन का मुख प्रातःकाल ही उन्होंने देखा है । व्रज-नागरिकाएँ एकत्र होकर नन्दभवन
में आकर मंगलगान कर रही हैं । वे आशीर्वाद देती हैं–‘यशोदा रानी का पुत्र कन्हाई
करोड़ों वर्ष जीवे ।’ गोकुलमें अत्यन्त आनन्द उमड़ा है,उसकी उपमा वर्णन नहीं किया
जा सकता । सूरदासजी कहते हैं कि नन्दपत्नी धन्य हैं, उनके दर्शन करके ही नेत्र शीतल
हो जाते हैं ।

Leave a Reply

Are you human? *