12. राग कल्यान – श्रीकृष्ण बाल-माधुरी

राग कल्यान

[13]

………..$
सोभा-सिंधु न अंत रही री ।
नंद-भवन भरि पूरि उमँगि चलि, ब्रज की बीथिनि फिरति बही री ॥
देखी जाइ आजु गोकुल मैं, घर-घर बेंचति फिरति दही री ।
कहँ लगि कहौं बनाइ बहुत बिधि,कहत न मुख सहसहुँ निबही री ॥
जसुमति-उदर-अगाध-उदधि तैं, उपजी ऐसी सबनि कही री ।
सूरस्याम प्रभु इंद्र-नीलमनि, ब्रज-बनिता उर लाइ गही री ॥

भावार्थ ;–
आज शोभाके समुद्र का पार नहीं रहा । नन्दभवन में वह पूर्णतः भरकर अब व्रजकी
गलियों में उमड़ता बहता जा रहा है । आज गोकुल में जाकर देखा कि (शोभाकी अधिदेवता
लक्ष्मी ही) घर घर दही बेचती घूम रही है । अनेक प्रकार से बनाकर कहाँतक कहूँ,
सहस्त्रों मुखों से वर्णन करने पर भी पार नहीं मिलता है । सूरदासजी कहते हैं कि सभी
ने इसी प्रकार कहा कि यशोदाजी की कोखरूपी अथाह सागर से मेरे प्रभुरूपी इन्द्रनीलमणि
उत्पन्न हुई, जिसे व्रजयुवतियों ने हृदय से लगाकर पकड़ रखा है (हृदयमें धारण कर
लिया है।)

Leave a Reply

Are you human? *