सर फ़रोशी की तमन्ना

सर फ़रोशी की तमन्ना

राम प्रसाद बिस्मिल

सर फ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है।

करता नहीं क्यूं दूसरा कुछ बात चीत
देखता हूं मैं जिसे वो चुप तिरी मेहफ़िल में है।

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफ़िल में है।

वक़्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में है।

खींच कर लाई है सब को क़त्ल होने की उम्मीद
आशिक़ों का आज झमघट कूचा-ए-क़ातिल में है।

है लिए हथियार दुश्मन ताक़ में बैठा उधर
और हम तैयार हैं सीना लिए अपना इधर
खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है।

हाथ जिन में हो जुनून कटते नहीं तलवार से
सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से
और भड़केगा जो शोला सा हमारे दिल में है।

हम तो घर से निकले ही थे बांध कर सर पे क़फ़न
जान हथेली पर लिए लो बढ चले हैं ये क़दम
ज़िंदगी तो अपनी मेहमाँ मौत की महफ़िल में है।

दिल में तूफ़ानों की टोली और नसों में इंक़िलाब
होश दुशमन के उड़ा देंगे हमें रोको ना आज
दूर रह पाए जो हम से दम कहां मंज़िल में है।

यूं खड़ा मक़तल में क़ातिल कह रहा है बार बार
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है।

4 Responses

  1. yogendra
    yogendra July 11, 2009 at 1:44 pm | | Reply

    shri bismil ji ki kavita wastav me josh bhar dene wali hai

  2. Rajnish
    Rajnish August 1, 2009 at 3:31 pm | | Reply

    ALL TIME GREATEST… MARVEL!!!!!

  3. Sanjeev Khandwal
    Sanjeev Khandwal September 26, 2009 at 6:03 am | | Reply

    This is the greatest poem written by Bismil. I think this is the powerful poem.

    1. nkchoudhary
      nkchoudhary September 26, 2009 at 6:10 am | | Reply

      Yepp!
      The greatest one, the one that gets the youth up and ready to make everything possible!!!

Leave a Reply

Are you human? *