मीरा भजनमाला

15. चितवौ जी मोरी ओर
…………………….

तनक हरि चितवौ जी मोरी ओर।
हम चितवत तुम चितवत नाहीं
मन के बड़े कठोर।
मेरे आसा चितनि तुम्हरी
और न दूजी ठौर।
तुमसे हमकूं एक हो जी
हम-सी लाख करोर।।
कब की ठाड़ी अरज करत हूं
अरज करत भइ भोर।
मीरा के प्रभु हरि अबिनासी
देस्यूं प्राण अकोर।।

Leave a Reply

Are you human? *