मीराबाई के सुबोध पद

88.राग धानी
…………………….

री, मेरे पार निकस गया सतगुर मार््या तीर।
बिरह-भाल लगी उर अंदर, व्याकुल भया सरीर।।
इत उत चित्त चलै नहिं कबहूं, डारी प्रेम-जंजीर।
कै जाणै मेरो प्रीतम प्यारो, और न जाणै पीर।।
कहा करूं मेरों बस नहिं सजनी, नैन झरत दोउ नीर।
मीरा कहै प्रभु तुम मिलियां बिन प्राण धरत नहिं धीर।।4।।
शब्दार्थ = री = अरी सखी। पार =आर-पार। तीर-मार््या =रहस्य के शब्द द्वारा
इशारे से बता दिया। चले नहिं = विचलित नहीं होता है। डारी = डाल दी।
नीर =जल, आंसुओं से तात्पर्य है।

Leave a Reply

Are you human? *