मीराबाई के सुबोध पद

48. राग अलैया
…………………….

तोसों लाग्यो नेह रे प्यारे नागर नंदकुमार।
मुरली तेरी मन हर््यौ, बिसर््यौ घर ब्यौहार।।
जबतैं श्रवननि धुनि परी, घर अंगणा न सुहाय।
पारधि ज्यूं चूकै नहीं, म्रिगी बेधि दई आय।।
पानी पीर न जानई ज्यों, मीन तड़फ मरि जाय।
रसिक मधुपके मरमको नहीं, समुझत कमल सुभाय।।
दीपकको जो दया नहिं, उड़ि-उड़ि मरत पतंग।
मीरा प्रभु गिरधर मिले, जैसे पाणी मिलि गयौ रंग।।9।।
शब्दार्थ /अर्थ :- बिसर््यो =भूल गया। पारधि =शिकारी। म्रिगी =हिरणी।
बेधी दइ = बाण बेध दिया। पीर =पीड़ा

Leave a Reply

Are you human? *