मीराबाई के सुबोध पद

12. राग देश बिलंपत
…………………….

दरस बिनु दूखण लागे नैन।
जबसे तुम बिछुड़े प्रभु मोरे, कबहुं न पायो चैन।।
सबद सुणत मेरी छतियां कांपे, मीठे लागे बैन।
बिरह कथा कांसूं कहूं सजनी, बह गई करवत ऐन।।
कल न परत पल हरि मग जोवत, भई छमासी रैन।
मीरा के प्रभू कब र मिलोगे, दुखमेटण सुखदैन।।12।।
शब्दार्थ /अर्थ :- सुणत =याद आते ही। बहगई करवत =जैसे आरी चल गई।
मेटण = मेटनेवाले। दैण =देनेवाले।

Leave a Reply

Are you human? *