भारतेंदु हरिश्चंद के पद

पद

भारतेंदु हरिश्चंद

तेरी अँगिया में चोर बसैं गोरी !

इन चोरन मेरो सरबस लूट्यौ मन लीनो जोरा जोरी !

छोड़ि देई कि बंद चोलिया, पकरैं चोर हम अपनो री !

“हरीचन्द” इन दोउन मेरी, नाहक कीनी चितचोरी !

तेरी अँगिया में चोर बसैं गोरी !!

One Response

  1. vipin
    vipin October 8, 2011 at 6:53 am | | Reply

    excellent

Leave a Reply

Are you human? *