ग़मे-आशिक़ी से कह दो

ग़मे-आशिक़ी से कह दो

शकील बँदायूनी

ग़मे-आशिक़ी से कह दो रहे–आम तक न पहुँचे ।

मुझे ख़ौफ़ है ये तोहमत मेरे नाम तक न पहुँचे ।।

मैं नज़र से पी रहा था कि ये दिल ने बददुआ दी –

तेरा हाथ ज़िंदगी-भर कभी जाम तक न पहुँचे ।

नयी सुबह पर नज़र है मगर आह ये भी डर है,

ये सहर भी रफ़्ता-रफ़्ता कहीं शाम तक न पहुँचे ।

ये अदा-ए-बेनियाज़ी तुझे बेवफ़ा मुबारिक,

मगर ऐसी बेरुख़ी क्या कि सलाम तक न पहुँचे ।

जो निक़ाबे-रुख उठी दी तो ये क़ैद भी लगा दी,

उठे हर निगाह लेकिन कोई बाम तक न पहुँचे ।

Leave a Reply

Are you human? *