उध्दव जी के कवित्त

श्री उद्धव के ब्रज में पहुँचने के समय के कवित्त
………………………………………………………………

29
दुख सुख ग्रीषम औ सिसिर न ब्यापै जिन्हैं
छापै छाप एकै हियै ब्रह्म-ज्ञान-साने मैं ।
कहै रतनाकर गंभीर सोई उधव कौ
धीर उधरान्यौ आनि ब्रज के सिवाने मैं ।।
औरे मुख-रंग भयौ सिथिलित अंग भयौ
बैन दबि दंग भयौ गर गरुवाने मैं ।
पुलकि पसीजि पास चाँपि मुरझाने काँपि
जानैं कौन बहति बयारि बरसाने मैं ।।

30
धाईं धाम-धाम तैं अवाई सुनि ऊधव की
बाम-बाम लाख अभिलाषनि सौं भ्वैं रहीं ।
कहै रतनाकर पै बिकल बिलोकि तिन्हैं
सकल करेजौ थामि आपुनपौ ख्वै रहीं ।।
लेखि निज-भाग-लेख रेख तिन आनन की
जानन की ताहि आतुरी सौं मन म्वै रहीं ।
आँस रोकि साँस रोकि पूछन-हुलास रोकि
मूरति निरास की सी आस-भरी ज्वै रहीं ।।

31
भेजे मनभावन के ऊधव के आवन की
सुधि ब्रज-गाँवनि मैं पावन जबै लगीं ।
कहै रतनाकर गुवालिनि की झौरि-झौरि
दौरो-दौरि नंद-पौरि आवन तबै लगीं ।।
उझकि-उझकि पद-कंजनि के पंजनि पै
पेखि-पेखि पाती छाती छोहनि छबै लगी ।
हमकौं लिख्यौ है कहा, हमकौं लिख्यौ है कहा,
हमकौं लिख्यौ है कहा कहन सबै लगीं ।।

32
देखि देखि आतुरी बिकल ब्रज-बारिन की
ऊधव की चातुरी सकल बहि जाति हैं ।
कहै रतनाकर कुसल कहि पूछि रहे
अपर सनेस की न बातैं कहि जाति हैं ।।
मौन रसना ह्वै जोग जदपि नजायौ सबै

तदपि निरास-बासना न गहि जाति हैं ।
साहस कै कछुक उमाहि पूछिबैं कौं ठाहि

चाहि उत गोपिका कराहि रहि जाति हैं ।।

33
दीन दसा देखि ब्रज-बालनि की ऊधव कौ
गरि गौ गुमान ज्ञान गौरव गुठाने से ।
कहै रतनाकर न आए मुख बैन नैन
नीर भरि ल्याए भए सकुचि सिहाने से ।।
सूखे से स्रमे से सकबके से सके से थके
भूले से भ्रमे से भभरे से भकुवाने से ।
हौले से हले से हूल-हूले से हिये मैं हाय
हारे से हरे से रहे हेरत हिराने से ।।

34
मोह-तम-रासि नासिबे कौं स-हुलास चले
ककौ प्रकास पारि मति रति-माती पर ।
कहै रतनाकर पै सुधि उधिरानी सबै
धूरि परी धीर जोग-जुगति सँघाती पर ।।
चलत विषम ताती बात-ब्रज-बारनि की
विपति महान परी ज्ञान-बरी बाती पर ।।
लच्छ दुरे सकल बिलोकत अलच्छ रहें
एक हाथ पाती एक हाथ दिये छाती पर ।।

Leave a Reply

Are you human? *