उध्दव जी के कवित्त

श्री उद्धव के मथुरा से ब्रज जाते समय के मार्ग के कवित्त
…………………………………….

23
आइ ब्रज-पथ रथ ऊधौ कौं चढ़ाइ कान्ह
अकथ कथानि की ब्यथा सौं अकुलात हैं ।
कहै रतनाकर बुझाइ कछु रोकैं पाय
पुनि कछु ध्याइ उर धाइ उरझात हैं ।।
रससि उसाँसनि सौं बहि बहि आँसनि सौं
भूरि भरे हिय के हुलास न उरात हैं ।
सीरे तपे विबिध सँदेसनि बातनि की
घातनि की झोंक मैं लगेई चले जात हैं ।।

24
लै कै उपदेस-औ-सँदेस-पन ऊधौ चले
शुजस-कमाइबैं उछाह-उदगार मैं ।
कहै रतनाकर निहारि कान्ह कातर पै
आतुर भए यौं रह्यौ मन न सँभार मैं ।।
ज्ञान-गठरी की गाँठि छरकि न जान्यौ कब
हरैं-हरैं पूँजी सब सरकि कछार मैं
डार मैं तमालनि की कछु बिरमानी अरु
कछू अरुझानी है करीरनि के झार मैं ।।

25
हरैं-हरैं ज्ञानके गुमान घटि जानि लगे
जोग के विधान ध्यान हूँ तैं टरिबैं लगे ।
नैननि मैं नीर रोम सकल शरीर छयौ
प्रेम-अद्भुत-सुख सूझि परिबै लगे ।।
गोकुल के गाँव की गली मैं पग पारत हीं
भूमि कैं प्रभाव भाव औरे भरिबै लगे ।
ज्ञान-मारतंड के सुखाए मनु मानस कौं

सरस सुहाये घनस्याम करिबै लगे ।।

27

Leave a Reply

Are you human? *